उगते सूर्य को अर्घ्य देने के साथ चार दिवसीय छठ महापर्व का समापन

0
119
उगते सूर्य को अर्घ्य देने के साथ चार दिवसीय छठ महापर्व का समापन
21 नवम्बर । आज सुबह उगते सूर्य को अर्घ्य देने के साथ ही व्रतियों ने अपने व्रत का पारण किया और परिवार के सुख समृद्धि की कामना की। शनिवार को तड़के सुबह से ही छठ घाटों पर व्रतियों की  भीड़ लगने लगी थी। 5.30 बजे तक अधिकांश श्रद्धालु छठ घाटों पर पहुंच गए थे। घाटों पर मनमोहक छटा देखते ही बन रही थी। इस तरह से लोक आस्था के चार दिवसीय छठ महापर्व का आज समापन हो गया।
छठ पूजा मनाने वाले व्रतियों ने 36 घंटे का निर्जला व्रत रखकर कड़ी साधना कर सूर्य से अपनी कृपा बनाए रखने की प्रार्थना की। इससे पहले षष्ठी को यानी 20 नवम्बर की शाम को व्रतियों ने अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्य दिया। भक्तों ने रातभर सूर्य देव के जल्दी उगने की प्रार्थना की। शनिवार सुबह सूर्योदय के साथ ही राजधानी भोपाल के शीतलादास की बगिया समेत सभी घाटों पर व्रतियों ने सूर्य की अराधना की। सुबह के समय घाटों पर बड़ी संख्या में व्रती अपने परिवार जनों के साथ जुट गए। कोरोना संक्रमण के चलते इस वर्ष कई लोगों ने घरों में भी लोग भगवान भास्कर का दर्शन कर अर्घ्य दे कर अपना व्रत संपन्न किया। अर्घ्य देने के बाद घाट या घर पर पारण कर श्रद्धालुओं ने अपना व्रत पूर्ण किया। इससे पहले शुक्रवार को शाम को ढलते सूर्य को अर्घ्य दिया गया था। इसी के साथ चार दिवसीय छठ महापर्व का समापन हो गया।
उल्लेखनीय है कि छठ महापर्व की शुरुआत नहाए खाए के दिन से होती है। इसके बाद श्रद्धालु खरना के दिन  पूरे दिन व्रत रखकर शाम को खीर का प्रसाद बनाते है। तीसरे दिन ढलते सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है और चौथे दिन उगते सूर्य को अर्घ्य देने के साथ ही 36 घंटे का उपवास संपन्न हो जाता है।

कोई जवाब दें