इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने इनकम का ब्योरा देने वाले नए इनकम टैक्स रिटर्न फॉर्म जारी किये

0
202
इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने इनकम का ब्योरा देने वाले नए इनकम टैक्स रिटर्न फॉर्म जारी किये
इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने 2019-2020 की इनकम का ब्योरा देने वाले नए इनकम टैक्स रिटर्न फॉर्म जारी कर दिए हैं। इन फॉर्म को जारी करने के साथ ही इस बार कई नए लोगों को टैक्स नेट में लाने की जानकारी भी सामने आ गई है। इन नए नियमों के तहत
– पिछले कारोबारी साल में एक लाख रुपये से ज्यादा का बिजली बिल
-या करंट अकाउंट में एक करोड़ रुपये से ज्यादा रकम
-या फिर विदेशी यात्रा में दो लाख रुपये से ज्यादा खर्च करने वालों को भी आयकर रिटर्न जमा करना होगा
-सीबीडीटी ने इसके लिए आईटीआर-1,2,3 और चार फॉर्म में नए कॉलम भी बनाए हैं।
इन्हीं कॉलम में बिजली बिल, हवाई यात्रा और करंट अकाउंट से जुड़े सवाल का जवाब हां या ना में देना होगा। हां के मामले में रिटर्न भरना अनिवार्य है।
इसके साथ ही CBDT ने 2019-2020 की आय का रिटर्न दाखिल करने के लिए 2020-21 में भरे जाने वाले
-सहज यानी आईटीआर-1,2 और 3 फॉर्म जारी कर दिए हैं
-इसके साथ ही सुगम यानी आईटीआर-4, 5, 6, 7 फॉर्म
-और आईटीआर-वी फॉर्म जारी किए हैं
कोविड-19 संकट के चलते सरकार ने आयकर रिटर्न दाखिल करने को लेकर दी गई रियायतों का फायदा करदाताओं तक पहुंचाने के लिए 2019-20 के आयकर रिटर्न फॉर्म में बदलाव किया है।
-नए आयकर रिटर्न फॉर्म में अनुसूची-DI को भी जोड़ा गया है
-इसके तहत करदाता को एक अप्रैल 2020 से 30 जून 2020 के बीच टैक्स-बचत योजनाओं में किए गए निवेश या दान की अलग से जानकारी देनी होगी।
-इसका फायदा करदाता को 2019-20 के आयकर में ही मिलेगा
इसके साथ ही अब आवासीय संपत्तियों के सह-मालिक और ज्यादा खर्च करने वाले करदाता भी सहज और सुगम फॉर्म से आयकर रिटर्न दाखिल कर सकेंगे। ये भरने में काफी आसान है जो टैक्सपेयर्स के लिए राहतभरा कदम है।
सरकर ने आयकर अधिनियम-1961 के तहत रिटर्न दाखिल करने की समय-सीमा में कई रियायतें दी हैं। सरकार ने 2019-20 के लिए आयकर रिटर्न दाखिल करने की आखिरी तारीख पहले ही बढ़ाकर 30 नवंबर, 2020 कर दी है। इतना ही नहीं, सरकार ने टैक्स ऑडिट रिपोर्ट दाखिल करने की आखिरी तारीख भी एक महीना बढ़ा दी है।

कोई जवाब दें