विमान में आतंकी होने और खुद के अपहरण की रची झूठी कहानी, पुलिस ने किया गिरफ्तार

0
40

जोधपुर, 01 अक्टूबर । एक लापता किशोर के पिता से इनाम की रकम वसूलने में नाकाम रहे शातिर दिमाग के युवक ने सोमवार को पुलिस और सुरक्षा एजेंसियों की अच्छी-खासी परेड करवा दी। युवक ने ना सिर्फ खुद के अपहरण की झूठी कहानी रची बल्कि एयर इंडिया के मुंबई से जोधपुर आए विमान में आतंकी होने की अफवाह भी फैला दी। इस कारण पुलिस समेत अन्य सुरक्षा व खुफिया एजेंसियों को खासी मशक्कत करनी पड़ी। एहतियात के तौर पर विमान के लैडिंग करते हुए सीआईएसएफ और पुलिस ने विमान को घेर लिया। पूरे एयरपोर्ट परिसर में सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई। इस पूरे प्रकरण में कई फ्लाइट्स लेट हुई और यात्रियों को एयरपोर्ट के अंदर बैठा रहना पड़ा। बाद में फ्लाइट में संदिग्ध आतंकी होने की सूचना फर्जी निकली।
दरअसल जोधपुर संभाग के जालोर जिले में सायला निवासी दिनेश सुथार (34) दो दिन पहले किसी काम से मैसूर गया था। वहां उसकी नजर एक गुमशुदगी विज्ञापन में दी हुई इनामी राशि पर पड़ी। पंद्रह वर्षीय जसवंत के गायब होने के पोस्टर देखें, जो उसके पिता की तरफ से लगवाए गए थे। पोस्टरों में जसवंत का पता बताने वाले को बड़ी राशि इनाम में देने का वादा किया गया था। इन पोस्टर को देख दिनेश के मन में लालच जागा और उसने अशोक को फोन लगाकर उनके बेटे जसवंत को जोधपुर के एक आश्रम में देखने की सूचना दी। पुत्र के बिछोह से दुखी अशोक ने तुरंत दिनेश को अपने पास बुलाया। दिनेश ने उन्हें आश्वस्त किया कि जोधपुर के एक आश्रम में उसने जसवंत को देखा है। यदि वे उसके साथ चले तो वह उन्हें अपने बेटे से मिला सकता है, लेकिन शर्त यह है कि वह इनाम की राशि भी जोधपुर में लेगा। अपने बेटे के गुमशुदा होने की रिपोर्ट लिखा चुके अशोक ने यह जानकारी पुलिस को दी। एेसे में सोमवार सुबह अशोक एक हैड कांस्टेबल, एक कांस्टेबल व दिनेश के साथ मैसूर से पहले मुंबई और फिर जोधपुर के लिए रवाना हुआ। दिनेश की योजना अशोक को जोधपुर लाकर उसके पैसे लेकर फरार होने की थी। पुलिस अधिकारी के साथ में आने से उसकी योजना धरी रह गई। इस पर उसे खुराफात सूझी और उसने इन्हें फंसाने की योजना तैयार की।
दिनेश ने विमान में एयर होस्टेज को बताया कि वह अपनी मर्जी से इस विमान में यात्रा नहीं कर रहा है। कुछ लोग उसे जबरन अपने साथ में लेकर आए है। ये लोग पाकिस्तान और बांगलादेश के है। इनकी मंशा ठीक नहीं है और कुछ गलत काम करने वाले है। क्रू मेंबर की इस जानकारी से पायलट ने एटीसी जोधपुर को अवगत कराया। इसके बाद जोधपुर में तैनात सीआईएसएफ के जवान हरकत में आ गए। एयर इंडिया की फ्लाइट के जोधपुर पहुंचते ही सुरक्षा कर्मियों ने विमान को अपने घेरे में ले लिया।
पुलिस छावनी बना एयरपोर्ट
प्लेन में कुछ संदिग्ध होने की सूचना मिलते ही एयरपोर्ट पर हडक़ंप मच गया था। इस सूचना के बाद जोधपुर एयरपोर्ट को अलर्ट कर दिया गया। देखते ही देखते एयरपोर्ट परिसर छावनी में तब्दील हो गया। सुरक्षा एजेंसियों से जुड़े अधिकारी एयरपोर्ट पर पहुंचकर व्यवस्थाओं की जानकारी लेने लगे। डीसीपी (पूर्व) डॉ. अमनदीप कपूर सहित बीडीएस की टीम भी मौके पर पहुंच गई। वहीं सीआईडी और सीबीआई के अधिकारी भी एयरपोर्ट पहुंच गए। इसी तरह से आरएसी का जाब्ता एयरपोर्ट परिसर में जगह-जगह तैनात कर दिया गया।
एयरपोर्ट पर यात्रियों को रोका
जानकारी के अनुसार फ्लाइट को मुंबई जाने के लिए बोर्डिंग नहीं करवाया गया और मुंबई से आये सभी यात्रियों को अराइवल एरिया में ही रोक दिया गया। इस घटनाक्रम के बाद फ्लाइट से आने-जाने वाले कई यात्री परेशान हुए। सुबह 11 बजे से यात्रियों को एयरपोर्ट पर ही रोक दिया गया। सभी यात्रियों की तलाशी भी ली गई। किसी भी यात्री को कई घंटों तक बाहर नहीं जाने दिया गया। सभी यात्रियों को दो घंटे की कड़ी तलाशी के बाद विमान से बाहर निकाला गया।
169 यात्री थे विमान में
करीब पौन घंटे तक विमान के दरवाजे भी नहीं खोले गए। विमान के अंदर सभी 169 यात्री सहमे हुए अंदर बैठे रहे। किसी को समझ में नहीं आ रहा था कि आखिरकार माजरा क्या है। क्रू मेंबर ने इस दौरान उन्हें किसी प्रकार की जानकारी नहीं दी। इसके बाद विमान का गेट खुलते ही सुरक्षा कर्मियों ने अंदर प्रवेश किया। सुरक्षा बलों ने दिनेश की बगल में बैठे पांच जनों को उठा लिया। इनमें से दो व्यक्ति पाली के थे और उनके परिवार में किसी का निधन होने के कारण विमान से जोधपुर पहुंचे थे। पुलिस ने पाली में इसकी पुष्टि की और उन दोनों को छोड़ दिया। शेष तीन से कड़ी पूछताछ में मैसूर पुलिस ने दिनेश की कारस्तानी पुलिस को बताई। इसके बाद पुलिस ने दिनेश के साथ सख्ती से पूछताछ की तो यह कहानी सामने आई। इसके बाद पुलिस ने दिनेश को गिरफ्तार कर लिया है। रातानाडा पुलिस थाना में एयर इंडिया अधिकारी अनिल विजयन की रिपोर्ट पर दिनेश सुथार द्वारा फर्जी आईडी से एयर टिकट लेकर सफर करने का मामला दर्ज करवाया है।

कोई जवाब दें