स्कूल से लापता हुई नाबालिग लड़की का शव जंगल में मिला

0
48
स्कूल से लापता हुई नाबालिग लड़की का शव जंगल में मिला

– पुलिस ने लावारिस शव के रूप में किया अन्तिम संस्कार

बाराबंकी, 04 अक्टूबर। नगर कोेतवाली क्षेत्र में स्कूल से लापता हुई नाबालिग लड़की का शव रविवार की सुबह जंगल में मिला। इससे पहले पुलिस ने अज्ञात में लड़की के शव का अंतिम संस्कार कर दिया था। हालांकि लड़की को गायब करने वाले आरोपित बहनोई को पुलिस ने पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

नगर कोतवाली इलाके के आवास विकास में रहने वाली 16 वर्षीय नाबालिग जीआईसी स्कूल पढ़ती थी। 21 सितम्बर को वह किसी काम से स्कूल गयी थी। उसके घर वापस न आने पर परिजनों ने स्कूल सहित कई जगह उसकी खोजबीन की मगर उसका कोई पता नही चला। थक हारकर परिजनों ने इसकी शिकायत पुलिस में की। पुलिस को जो अन्तिम बार लड़की से बात हुई वह नम्बर दिया गया तो जांच में वह फोन नम्बर लड़की के बहनोई का ही निकला।

शक के आधार पर पुलिस ने लड़की के बहनोई से पूछताछ की तो उसने बताया कि लड़की से उसकी मुलाकात हुई थी और वह उसे अपने एक परिचित सलमान के साथ मुम्बई भेज दिया है। पुलिस जब उसे लेकर मुम्बई पहुंची तो वहां यह पुलिस को इधर उधर घुमाता रहा। जब फिर पुलिस ने सख्ती की तो उसने बताया कि उसने अपनी साली को मार दिया है और सतरिख के एक जंगल में फेंक दिया है। हालाकि पुलिस लड़की के शव को पहले ही बरामद कर चुकी थी मगर शव क्षतविक्षत होने के कारण उसकी पहचान के लिए कुछ दिन थाने पर रखा और फिर उसका अन्तिम संस्कार कर दिया था।
परिजनों ने बताया कि जब उन्होंने पुलिस को गुमशुदगी की सूचना दे रखी थी तो उनको सूचना दिए बगैर लड़की का अन्तिम संस्कार कैसे कर दिया। उनको यह विश्वास ही नहीं कि पुलिस जो अपनी कहानी बता रही है उसमें कितनी सच्चाई है। तीस सितम्बर को अन्तिम संस्कार करने के बाद दो तारीख को उन्हें सूचना दी जाती है कि लड़की का अन्तिम संस्कार कर दिया गया।

पुलिस अधीक्षक डॉक्टर अरविन्द चतुर्वेदी ने बताया कि 23 तारीख को नगर कोतवाली में सूचना आयी थी कि 21 तारीख को पढ़ने आयी आवास विकास निवासी 16 वर्षीय लड़की स्कूल के बाहर से लापता हो गयी है। उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज की गयी थी। परिजनों द्वारा एक मोबाइल नम्बर दिया गया था, जिससे लड़की की अन्तिम बार बात हुई थी।

 छानबीन में वह नम्बर लड़की के बहनोई लवकुश का निकला और पुलिस ने उसे हिरासत में लेकर पूछताछ की तो उसने बताया कि उसका उसकी साली से प्रेम हो गया था और वह लगातार उस पर शादी का दबाव बना रही थी, लेकिन वह अपना घर तोड़ना नही चाहता था। इस बीच पहले ही पुलिस को जंगल में एक लड़की का क्षत-विक्षत शव मिल चुका था और पहचान के लिए तीन दिनों तक रखा भी रहा। तीन दिन बाद 30 सितम्बर को पुलिस ने उसका सम्मान सहित अन्तिम संस्कार कर दिया। बाद में लड़की की पहचान और आरोपित के पकड़े जाने की कड़ियां मिल चुकी है तो इस मामले में अग्रिम कार्यवाही पुलिस कर रही है ।

कोई जवाब दें