अगर आप भी पीते हैं काढ़ा तो हो जाईये सावधान 

0
280
अगर आप भी पीते हैं काढ़ा तो हो जाईये सावधान 
नई दिल्ली , 28 जुलाई।
कोरोना से जंग में जिस सलाह का सबसे ज्यादा इस्तेमाल होता है वो है इम्युनिटी यानी शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाना। जिस इंसान में ये इम्युनिटी जितनी ज्यादा मजबूत होगी उसका कोरोना से बचना या ठीक होना उतना ही आसान होगा। यही वजह है कि कोरोना काल में इम्युनिटी का बाजार गर्म है। लाख में सिमटा उत्पादों का कारोबार करोड़ों में पहुंच गया है। हर रोज नई-नई कंपनियां ऑनलाइन इम्युनिटी प्रोडक्ट लांच कर रही हैं। भारतीय मसालों के दम इम्युनिटी बढ़ाने वाले प्रॉडक्ट्स की भरमार के चलते भारत ही नहीं दुनियाभर में भारतीय मसालों की डिमांड में जोरदार तेजी आई है। इम्युनिटी बढ़ाने की सलाह का नतीजा ये रहा है कि
-भारतीय मसालों का निर्यात जून 2020 में 34 फीसदी तक बढ़ गया
-जबकि घरेलू बाजार में मसालों की कीमतों में 12 फीसदी तक की बढ़ोतरी दर्ज की गई है
-पिछले साल जून में जहां 2030 करोड़ रुपये के मसालों का निर्यात किया गया था
-वहीं इस साल जून में 2721 करोड़ रुपये के मसालों का निर्यात किया गया
मसाले की अंतरराष्ट्रीय मांग में आई इस तेजी के बाद घरेलू बाजारों में भी मसाले के मूल्य में तड़का लग गया है यानी कीमतें तेज हो गई हैं। इन्हीं मसालों के दम पर इम्युनिटी बढ़ाने के लिए तमाम नुस्खे बताए जा रहे हैं। इनमें सबसे ज्यादा लोकप्रिय है बाबा रामदेन का सुझाया फॉर्मूला। योग गुरू बाबा राम ने जब से कोरोना को मात देने के लिए
-गिलोय, तुलसी, पुदीना. काली मिर्च का सेवन करना बताया है तब से लोग इन्हीं चीजों का काढ़ा बनाकर पी रहे हैं।
-कोई दिन में एक बार तो कई लोग इस काढ़े को दो बार भी पीते हैं।
लेकिन अब आयुर्वेद के जानकार दावा कर रहे हैं कि अश्वगंधा, काली मिर्च, पुदीना, तुलसी, लोंग, लहसुन, हींग जैसे मसालों से बना काढ़ा मानव शरीर के लिए नुकसानदेह भी साबित हो रहा है।
दरअसल, लोगों को इन चीजों का सही अनुपात न मालूम होने के कारण ये काढ़ा अब सेहत को नुकसान पहुंचा रहा है।  इम्यूनिटी बढ़ाने वाली ऐसी कोई भी दवा जरूरत से ज्यादा या गलत अनुपात में लेने से इम्युनिटी भले ही बढ़े या ना भी बढ़े लेकिन शरीर में दूसरी बीमारियां जरुर इससे पनप सकती हैं। हेल्थ एक्सपर्ट्स के मुताबिक
-दालचीनी, गिलोय, काली मिर्च जैसी चीजों का ओवरडोज पेट दर्द, सीने में जलन का कारण बन रहा है।
-इतना ही नहीं अब यह काढ़ा लीवर को भी डैमेज कर रहा है
इसीलिए सलाह दी जा रही है कि काढ़ा बनाने से पहले किसी जानकार से सलाह लेने के बाद ही इसका इस्तेमाल करना चाहिए।
हल्दी, अदरक, काली मिर्च जैसे मसाले शरीर में काफी गर्मी लाते हैं। इनसे रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है लेकिन ज्यादा मात्रा में लेने से कई बीमारियों का खतरा भी बढ़ जाता है। Food Safety and Standards Authority of India यानी FSSAI भी अब इम्युनिटी बढ़ाने का दावा करने वाले प्रॉडक्ट्स को अपने रडार में लेनी वाली है। ऐसे में उम्मीद है कि कारोबार के नाम पर लोगों की सेहत के साथ खिलवाड़ करने वाले इन उत्पादों पर वक्त रहते लगाम लगाई जा सकेगी।

कोई जवाब दें