सीडीआर में कई रसूखदारों से बातचीत का खुलासा, हुई नींद हराम

0
319

मामला गया की मनीषा दयाल के आसरा सेल्टर होम का
गया, 20 अगस्त | गया के रामपुर थाना क्षेत्र के एपी कालोनी की मूल निवासी मनीषा दयाल के मोबाइल फोन का काल डिटेल रिपोर्ट (सीडीआर) से कई चौंकाने वाली बात सामने आई है। सूबे के कई रसूखदारों के साथ बातचीत होने की पुष्टि हुई है। इनमें वरिष्ठ अधिकारी, राजनेता और मीडिया हाउस के बड़े- बड़े लोग शामिल हैं। सीडीआर सूची में नाम आने के बाद ऐसे बड़े- बड़े लोगों से कभी भी पुलिस पूछताछ कर सकती है। इस बात की भनक लगते ही ऐसे सभी की नींद हराम होना तय माना जा रहा है। गया में पदस्थापित रहे एक वरिष्ठ आईएएस अधिकारी और उनकी पत्नी के मनीषा दयाल के साथ गहरे रिश्ते पर एसआईटी की पैनी नजर है।
पटना के राजीव नगर मुहल्ले में स्थित आसरा होम सेल्टर की कोषाध्यक्ष मनीषा दयाल और सचिव चिरंतन कुमार से पटना जोनल आईजी नैय्यर हसनैन खान और गठित एसआईटी को काफी अहम सूचना और जानकारी मिली है। इस बात की भनक लगते ही तीन-चार आईएएस और आईपीएस अधिकारियों की रातों की नींद हराम हो गई है। सभी सूबे के वरिष्ठ नौकरशाह हैं । वरिष्ठ आईएएस और आईपीएस अधिकारी कौन-कौन है? इस बात को लेकर ‘पावर कोरिडोर’ में चर्चा का दौर शुरू हो गया है।
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जोनल आईजी, पटना नैय्यर हसनैन खान को पूरे मामले की जांच कर रिपोर्ट समर्पित करने का आदेश दे रखा है। आईजी श्री खान ने एसपी, सिटी (मध्य) अमरकेश डी के नेतृत्व में एसआईटी गठित की है। आईजी खान और एसआईटी टीम ने मनीषा दयाल और चिरंतन कुमार से पुलिस हिरासत में गुरुवार को पूछताछ पूरी कर दोनों को वापस न्यायिक हिरासत में अदालती आदेश पर भेज दिया। अदालत ने तीन दिन की पुलिस हिरासत में दोनों आरोपियों को पूछताछ करने की पटना पुलिस की प्रार्थना स्वीकार किया था।
जोनल आईजी खान ने रविवार को पूछे जाने पर बताया कि मनीषा दयाल के मोबाइल फोन का काल डिटेल रिपोर्ट (सीडीआर) की जांच की जा रही है। उन्होंने इस बात से इंकार नहीं किया कि सीडीआर से स्पष्ट है कि कई वरिष्ठ अधिकारियों से मनीषा दयाल की बातें हुआ करती थी। आईजी खान ने आगे कहा कि अधिकारियों के अतिरिक्त कई अन्य रसूखदारों के साथ मनीषा दयाल के सम्बंध की पुष्टि हुई है। ऐसे रसूखदारों से लगातार बात करने के पीछे क्या उद्देश्य था? इसका ‘जबाव’ सीआईटी अपने अनुसंधान में तलाश करेगी। आईजी खान ने बताया कि मनीषा दयाल और चिरंतन से पूछताछ के क्रम में अहम सूचना और जानकारी मिली है। सूचना और जानकारी की सत्यता की जांच की जा रही हैं।
विश्वस्त सूत्रों के अनुसार सीडीआर में ऐसे वरिष्ठ केन्द्रीय सेवा के अधिकारियों से बात की पुष्टि हुई है, जो हमेशा जिला से लेकर मुख्यालय में अहम पदों पर रहे हैं। इनमें एक अभी सत्ता के ‘पावर कारिडोर’ में हैं ।

कोई जवाब दें